हाई केबल फेस पुल कैसे करें ; 10 टिप्‍स

जिम जाने वाले नए युवाओं को फिलहाल इस कसरत की जरूरत नहीं मगर पुराने हो चुके युवकों को यह कसरत जरूर करनी चाहिए। हाई केबल फेस पुल को आप शोल्डर अथवा बैक अथवा दोनों के साथ कर सकते हैं। यह कसरत आपके ट्रैप्स को बनाती है। ट्रैप्स आपकी गर्दन के नीचे का हिस्सा होता है। यह आपकी गर्दन से लगता हुआ मसल्स होता है जो एक माला की शेप में होता है। इस हिस्से के बने रहने पर आप जब भी कोई हल्की टी शार्ट बॉडी पर डालेंगे तो गर्दन के नीचे उसकी शेप बिल्कुल अलग नजर आएगी।

जो लोग जिम में नए हैं उन्हें फिलहाल इस मसल के लिए अलग से वर्कआउट नहीं करना चाहिए। और कई कसरतें होती हैं, जिनमें यह कवर हो जाता है। मगर पुराने लोगों को अच्छी बॉडी शेप के लिए अलग से मेहनत करनी चाहिए।

हाई केबल फेस पुल कसरत के फायदे

  1. सबसे पहले तो इससे आपके कंधों की शेप बेहतर बनती है। उनमें गोलाई आती है और मसल्स अलग अलग चमकने लगते हैं।
  2. यह एक्सरसाइज बॉडी के पोस्चर को ठीक करती है। जो लोग झुक कर चलते हैं उनके लिए बड़े फायदे की कसरत है। दरअसल कसरत का कायदा ये होता है कि आप जिना पुश कर रहे हैं उतना ही पुल भी करें। तब आपकी बॉडी बैलेंस में रहती है। यह कसरत पुल करने वाली है इसलिए इसे करना जरूरी है।
  3. यह अकेली कसरत है जिसमें आप अपने ट्रैप्‍स और लैट को पूरी तरह से सिकोड़ सकते हैं।

कैसे करें हाई केबल फेस पुल

  1. तस्वीर देखे बिना आप इसे नहीं समझ पाएंगे। और तस्वीर देखते ही एक झटके में समझ जाएंगे।
  2. ध्यान रखने वाली सबसे जरूरी बात ये है कि रोप को आंखों की ऊंचाई पर सेट करें, ताकि जब भी आप उसे अपनी ओर खींचे तो वो थोड नीचे की ओर आए।
  3. यह एक्सरसाइज ज्यादा बहुत हैवी वेट के साथ नहीं लगाई जाती।
  4. रोप को अपनी ओर खींचे और इतना खींचे कि या तो वो आपकी ठोडी के निचले हिस्से को छू जाए या आप उसे चूम लें।
  5. कसरत का सबसे अहम हिस्सा से इसे होल्ड करना। रोप को पूरी तरह से खींच लेने के बाद दो से तीन सेकेंड रुकने की कोशिश किया करें। यहां अपने ट्रैप्स को पूरी तरह से सिकोड़ कर रखें।
  6. वेट को थोडी तेजी से वापस जाने दें।
  7. इस कसरत को आप सप्ताह में दो तीन बार आराम से कर सकते हैं। बैक और शोल्डर दोनों के दिन सबसे पहली कसरत के रूप में आप इसे कर सकते हैं। सेट तीन से चार रखें और रैप 10 से 12
  8. रोप को ऐसे खींचे जैसे आप इसे तोड़ कर इसके दो हिस्स कर देंगे।
  9. ग्रिप को बदल कर देखते रहें, जैसे आपको सूट कर रही हो वैसे ग्रिप रखें। रस्सी को लोग दो तरह से पकड़ते हैं ऊपर की तरफ से यानी उसमें अंगूठा नीचे रहेगा और नीचे की तरफ से यानी उसमें अंगूठा ऊपर रहेगा।
  10. एक्सरसाइज करते वक्त चेस्ट अप करके रखें। रो को खींचते वक्त सांस छोड़ें।

स्रोत: http://www.bodylab.in/

Training, Good to know